admin

Hindi geet

  नदी बोली समन्दर से, मैं तेरे पास आई हूँ। मुझे भी गा मेरे शायर,

Hindi sayari

ना पाने की खुशी है कुछ,ना खोने का ही कुछ गम है… ये दौलत और